श्री चिन्मयानन्द बापू जी !

जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम ! जय श्री राम !

KATHA SCHEDULE

श्री राम कथा
कथा स्थान :-
सिटी गार्डेन सेवक रोड, जिला-सिलीगुड़ी (पश्चिम बंगाल )
दिनांक :-
६ अगस्त से १४ अगस्त २०१६ तक



भागवत कथा
कथा स्थान :-
रायसिंह नगर श्री गंगानगर, राजस्थान
दिनांक :-
२७ अगस्त से २ सितम्बर २०१६ तक

होय बिबेक मोह भ्रम भागा |
तब रघुनाथ चरन अनुरागा ||

अर्थ-कुश की जड़ की गांठ से माला बनवा कर प्रतिदिन दस माला करें | इस मंत्र के प्रयोग से मोह भ्रम का अंत होकर अंतर्मन जाग्रत होता है | रघुनाथ जी के चरणों में अनुराग उत्पन्न होता है |

Anmol,
Vachan